‘हरि घास पर क्षण भर’ (कविता) –सच्चितानन्द हीरानन्द वात्स्यायन ‘अज्ञेय’ (इकाई-5)

‘हरि घास पर क्षण भर’ अज्ञेय जी की एक प्रमुख कविता संग्रह है। इस कविता संग्रह में ‘हरि घास पर क्षण भर’ भी एक कविता है। यह कविता इलाहाबाद में 14 औक्तुबर 1949 में रची गई थी। अज्ञेय प्रयोगवादी कवि थे अतः उनकी कविताओं में प्रयोग का होना स्वाभाविक है। यह कविता अज्ञेय की नई… Continue reading ‘हरि घास पर क्षण भर’ (कविता) –सच्चितानन्द हीरानन्द वात्स्यायन ‘अज्ञेय’ (इकाई-5)

रश्मिरथी (खण्डकाव्य) – रामधारी सिंह ‘दिनकर’ : इकाई-5

     ‘रश्मिरथी’ 1952 ई० में प्रकाशित हुआ था। रश्मिरथी का अर्थ ‘सूर्य का सारथी’ होता है। यह एक प्रसिद्ध ‘खण्डकाव्य’ है। यह खड़ीबोली में लिखा गया है। रश्मिरथी में कर्ण के चरित्र के सभी पक्षों का चित्रण किया गया है। दिनकर ने कर्ण को महा भारतीय कथानक से ऊपर उठाकर उसे नैतिकता और विश्वसनीयता की… Continue reading रश्मिरथी (खण्डकाव्य) – रामधारी सिंह ‘दिनकर’ : इकाई-5

प्रथम रश्मि (कविता) – सुमित्रानंदनपंत : इकाई-5

‘प्रथम रश्मि’ कविता 1919 में लिखी गई थी। यह कविता ‘वीणा’ (1927ई०) काव्य संग्रह में संग्रहीत है। प्रथम रश्मि कविता में कवि ने सुबह की प्रथम किरण के साथ प्रकृति में होने वाले स्वाभाविक बदलाव का बड़ा ही सुंदर और मनोहारी चित्र प्रस्तुत किया है। प्रथम रश्मि के आने से पहले जैसे पूरा विश्व स्तब्ध… Continue reading प्रथम रश्मि (कविता) – सुमित्रानंदनपंत : इकाई-5

परिवर्तन (कविता) – सुमित्रानंदन पंत: इकाई-5

‘परिवर्तन’ यह कविता 1924 में लिखी गई थी। कविता रोला छंद में रचित है। यह एक लम्बी कविता है। यह कविता ‘पल्लव’ नामक काव्य संग्रह में संकलित है। परिवर्तन कविता को समालोचकों ने एक ‘ग्रैंड महाकाव्य’ कहा है। स्वयं पंत जी ने इसे पल्लव काल की प्रतिनिधि रचना मानते हैं। परिवर्तन को कवि ने जीवन… Continue reading परिवर्तन (कविता) – सुमित्रानंदन पंत: इकाई-5

द्रुत झरों जगत के जीर्ण पत्र (कविता) – सुमित्रानंदन पंत : (इकाई-5)

(जन्म- 20 मई 1900 ई० - निधन 28 दिसंबर 1977) सुमित्रानंदन पंत का जन्म- 20 मई 1900 ई० को कौशाम्बी ग्राम में हुआ था।पिता का नाम गंगा दत्त और माता का नाम सरस्वती देवी था।   निधन- 28 दिसंबर 1977 को इलाहाबाद में हुआ था। सुमुत्रानंदन पंत के उपनाम: इनका बचपन का नाम गोसाईदत्त था। छायावाद… Continue reading द्रुत झरों जगत के जीर्ण पत्र (कविता) – सुमित्रानंदन पंत : (इकाई-5)

महादेवी वर्मा की कविताएँ: (इकाई-5)

 (26 मार्च 1907-11 सितंबर 1987) महादेवी वर्मा का जन्म: 24 मार्च 1907 को होली के दिन फर्रुखाबाद उत्तर प्रदेश।पिता का नाम: श्री गोविंद प्रसाद वर्मा और माता का नाम हेमरानी वर्मा था।पति का नाम: रूपनारायण वर्मा।निधन: 11 सितंबर, 1987 को इलाहाबाद में ।महादेवी वर्मा के नाना ब्रजभाषा के कवि थे।महादेवी वर्मा हिन्दी साहित्य में छायावाद… Continue reading महादेवी वर्मा की कविताएँ: (इकाई-5)

सुदामा पांडेय ‘धूमिल’ की कविताएँ – इकाई-5

(जन्म 9 नवंबर 1936- निधन 10 फरवरी 1975) सुदामा पांडेय ‘धूमिल’ का जन्म 9 जनवरी 1936 को वाराणसी के निकट खेवली गाँव में हुआ था। इनके पिता का नाम शिवनायक पांडे था जो पेशे से एक मुनीम थे। माता रजवंती देवी थी। धूमिल का बचपन संघर्षमय रहा। बारह वर्ष की अवस्था में उनका विवाह मूरत… Continue reading सुदामा पांडेय ‘धूमिल’ की कविताएँ – इकाई-5

भवानीप्रसाद मिश्र की कविताएँ (इकाई-5)

(जन्म:29 मार्च 1913 - मृत्यु 20 फ़रवरी 1985) भवानीप्रसाद मिश्र का जन्म मध्यप्रदेश के होशंगाबाद जिले के टिगरिया गाँव में 29 मार्च 1913 को हुआ था। पिता का नाम: पं० सीताराम मिश्र था।वे शिक्षा विभाग में अधिकारी और साहित्य प्रेमी थे।भवानीप्रसाद की प्रारम्भिक शिक्षा: नरसिंहपुर और जबलपुर में हुआ।हिन्दी, संस्कृत और अंग्रेजी भाषा पर उनकी… Continue reading भवानीप्रसाद मिश्र की कविताएँ (इकाई-5)

नागार्जुन की कविताएँ : इकाई – 5

(जन्म 30 जून, 1911 – मृत्यु 05 नवंबर, 1998) नागार्जुन का जन्म वर्तमान मधुबनी जिले के ‘सतलखा’ गाँव में हुआ था। यहाँ उनका ननिहाल था। नागार्जुन का पैतृक गाँव वर्तमान दरभंगा जिले का तरौनी ग्राम है। पिता का नाम: गोकुल मिश्रा और माता उमा देवी थी। नगार्जुन के बचपन का नाम ‘ठक्कन मिसिर’ था। नागार्जुन… Continue reading नागार्जुन की कविताएँ : इकाई – 5

‘कबीरदास’ (सं० हजारीप्रसाद द्विवेदी, पद सं 160-209) इकाई-5

  कबीर एक धर्मोपदेशक, समाज-सुधारक योगी और कवि के साथ-साथ महान भक्त भी थे। ‘कबीर’ फारसी का शब्द है। कबीर का अर्थ ‘महान’ˎहोता है। कबीर का जन्म विक्रमी संवत् 1455 में काशी नामक स्थान पर हुआ था।वि०स० को ई० में बदलने के लिए 57 से घटाने पर कबीर का जन्म 1398 ई० में हुआ था।… Continue reading ‘कबीरदास’ (सं० हजारीप्रसाद द्विवेदी, पद सं 160-209) इकाई-5