कदम का फूल ‘BUTTER FLOWER TREE’ (लेख)

‘कदम’ का नाम आते ही सुभद्रा कुमारी चौहान की कविता ‘कदम का पेड़’ की याद आ जाती है। उन्होंने इस कविता में बालक के मन की इच्छा को चित्रित किया है। जो कन्हैया बनकर कदंम के पेड़ पर खेलना चाहता है। बालक माँ से कहता है-   “यह  कदम  का पेड़ अगर माँ होता यमुना… Continue reading कदम का फूल ‘BUTTER FLOWER TREE’ (लेख)

महेशदास उर्फ़ बीरबल (कहानी)

अकबर हमेशा अपने टेढ़े-मेढ़े सवालों से बीरबल को फ़साने का प्रयास किया करता था। परन्तु बीरबल अपनी चतुराई से अकबर की टोपी घुमाकर उसी को पहना दिया करते थे। अकबर खुद तो पढ़ालिखा नहीं था लेकिन उसके दरवार में योग्य और बुद्धिमान दरवारी थे, जिन्हें अकबर के नवरत्नों के नाम से जाना जाता था। उसके… Continue reading महेशदास उर्फ़ बीरबल (कहानी)

एक रहस्मय कुआँ (अगम कुआँ)

बिहार की राजधानी पटना एक खुबसूरत ऐतिहासिक शहर है। पहले इसे पाटलिपुत्र के नाम से जाना जाता था। पटना दुनिया के सबसे पुराने शहरों में से एक है। एक समय ऐसा भी था जब पटना की गिनती सबसे बड़े शहरों में होती थी। मौर्यकाल में पटना पाटलिपुत्र के नाम से जाना जाता था। इसी शहर… Continue reading एक रहस्मय कुआँ (अगम कुआँ)

महुआ (लेख)

पेड़-पौधे हम सभी जीव-जंतुओं के लिए प्रकृति के तरफ से दिया गया अनमोल उपहार है। इसके बिना हम जीवन की कल्पना नहीं कर सकते हैं। यह हमें जीवनदायनी वायु ऑक्सीजन से हमारा भरण-पोषण भी करती हैं। हम यह सब जानते हुए भी अपने सुख के लिए इन्हें उजाड़ रहे हैं। अर्थात हम जिस डाली पर… Continue reading महुआ (लेख)

पलाश के फूल

पलाश ‘फबासी’ परिवार का एक फूल है, जिसका वैज्ञानिक नाम ‘ब्यूटिया मोनोस्पर्मा’ है। इस फूल को इसके आकर्षक सुर्ख लाल रंग के कारण इसे ‘जंगल का आग’ भी कहा जाता है। पलाश का यह फूल उत्तर प्रदेश का ‘राज्य पुष्प’ है। इस पुष्प को ‘भारतीय डाकतार विभाग’ के द्वारा डाक टिकट पर प्रकाशित कर सम्मानित… Continue reading पलाश के फूल

यात्रावृतांत (Travelogue)

यात्रावृतांत किसी स्थान में बाहर से आये व्यक्ति या व्यक्तियों के अनुभवों के बारे में लिखे वृतांत को कहते है। इसका प्रयोग पाठक मनोरंजन के लिए या फिर उसी स्थान में स्वयं यात्रा के लिए जानकारी प्राप्त करने के लिए करते है। हिन्दी में यात्रावृतांत लिखने की परम्परा सूत्रपात भारतेंदु युग से माना जाता है।… Continue reading यात्रावृतांत (Travelogue)

प्राकृतिक चिकत्सा और गाँधी जी

कोई नहीं समस्या जिसका, समाधान न हो योग से, सतयुग  में वापसी हो सकती है, योग के प्रयोग से  प्रस्तावना- प्राकृतिक चिकित्सा, चिकित्सा के साथ एक जीवन पद्धति भी है। जिसमे प्राकृतिक विधि-विधानों के द्वारा मानव के शरीर में होने वाले रोगों का उपचार किया जाता है। यह चिकित्सा पद्धति आज की सभी चिकित्सा पद्धतियों… Continue reading प्राकृतिक चिकत्सा और गाँधी जी

कृष्णा सोबती कृत ‘सिक्का बदल गया’ (कहानी)

कृष्णा सोबती कृत ‘सिक्का बदल गया’ कहानी की समीक्षा और अध्ययन कृष्णा सोबती का संक्षिप्त परिचय- (जन्म 18 फरवरी 1925 - 25 जनवरी 2018) कृष्णा सोबती का जन्म 18 फरवरी, 1925 को पंजाब के शहर गुजरात में हुआ था। जो अब पाकिस्तान में है। विभाजन के बाद वे दिल्ली आकर बस गई थी। इन्होने पचास… Continue reading कृष्णा सोबती कृत ‘सिक्का बदल गया’ (कहानी)

भीष्म सहनी कृत ‘चीफ की दावत’ (कहानी)

भीष्म साहनी कृत ‘चीफ की दावत’ कहानी की समीक्षा और सम्पूर्ण अध्ययन भीष्म साहनी संक्षिप्त जीवनी- भीष्म साहनी (8 अगस्त 1915-11 जुलाई 2003) का जन्म रावलपिंडी (पाकिस्तान) में हुआ। आप आधुनिक हिन्दी साहित्य के प्रमुख स्तंभों में से थे। 1937 में लाहौर गवर्नमेन्ट कॉलेज, लाहौर से अंग्रेजी साहित्य में एम ए करने के बाद साहनी… Continue reading भीष्म सहनी कृत ‘चीफ की दावत’ (कहानी)

धनतेरस

 धनतेरस कार्तिक महीने में कृष्ण पक्ष के ‘त्रयोदशी’ तिथि को मनाया जाता है। शास्त्रों के अनुसार इसी दिन भगवान धनवंतरी का जन्म हुआ था। कई जगहों पर इसे ‘जमदियारी’ भी कहते हैं। भारत सरकार ने धनतेरस को राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया है। जैन आगम में धनतेरस को 'धन्य तेरस' या 'ध्यान… Continue reading धनतेरस