लौट जायेंगे हम (कविता)

जी को उदास न कीजिए, जी भर के जीना सीखिए।

छोड़िये उलहना देना औरों को, बस धन्यवाद करना दीजिए।

गुजरिए जिन रास्तों से होकर, प्यारा सा संदेश दीजिए।

देख कर हर जन-जन को, जरा सा मुस्करा दीजिए।

उम्र का हर दौड़ बेहतरीन है, हर उम्र का स्वाद लीजिये।

लौट जायेंगे हम सब एक दिन, हर दिन का मज़ा लीजिए।

2 thoughts on “लौट जायेंगे हम (कविता)”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.