ऋतु बसंत (कविता)

आया बसंत, आया ऋतुराज,

भू पर लाया खुशियों का सौगात।

बाग-बगीचे हुए खुशहाल,

खेतों में फूले सरसों भरमार।

आम के पेड़ों पर लदे मोजरें,

झूम के गाये प्यारी कोयल।

पीली सरसों हवा में झूमे,

झूम-झूम के गीत सुनाये।  

अलसी खेतों में डोल रही है,

डोल-डोल कुछ बोल रही है।  

रंग-बिरंगी धरा हो रही,

प्रकृति ओस से रोज नहाये।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.