हिंदी वर्णमाला

हिंदी वर्णमाला के दो प्रकार हैं- 1. स्वर और 2. व्यंजन

  1. स्वर की परिभाषा- स्वर वे अक्षर है जिसे बोलने के लिए किसी और ध्वनि की मदद नहीं लेनी पड़ती है। अ आ इ ई उ ऊ ए ऐ ओ औ – (11)
    अं अः अयोगवाह है – (अं) को अनुस्वार और (अः) विसर्ग कहते हैं। ये (2) हैं।
    ह्रस्व स्वर- अ इ उ ऋ (4) हैं।
    दीर्घ स्वर- आ ई ऊ ए ऐ ओ औ (7) हैं।स्वर के मुख्य तीन प्रकार के होते है-

    • ह्रस्व स्वर– अ इ उ ऋ (4) होते है इसमें कम समय लगता है।
    • दीर्घ स्वर– आ ई ऊ ए ऐ ओ औ (7) इसमें ह्रस्व से ज्यादा समय लगता है।
    • प्लुत स्वर– ओम इसमें ह्रस्व और दीर्घ से तीन गुना ज्यादा समय लगता है।

 

  1. व्यंजन की परिभाषा- जिसको स्वरों की सहायता या मदद से ही बोला जाता है, उसे व्यंजन कहते है
क ख ग घ ड० इसे ‘क वर्ग’ कहते है, इसका उच्चारण ‘कंठ’ किया जाता है।
च छ ज झ ञ इसे ‘च वर्ग’ कहते है, इसका उच्चारण ‘तालु’ से किया जाता है।
ट ठ ड ढ ण इसे ‘ट वर्ग’ कहते है, इसका उच्चारण ‘मूर्धा’ से किया जाता है।
त थ द ध न इसे ‘त वर्ग’ कहते है, इसका उच्चारण ‘दन्त’ से किया जाता है।
प फ ब भ म इसे ‘प वर्ग’ कहते है, इसका उच्चारण ‘ओष्ठ’ से किया जाता है।
य र ल व (इन चारों को) ‘अन्तस्थ व्यंजन’ कहते हैं।
श ष स ह (इन चारों को) ‘उष्ण व्यंजन’ कहते हैं।

संयुक्त अक्षर- क्ष त्र ज्ञ श्र (4) ये चारों दो व्यंजनों के संयोग से बनता है।

3 thoughts on “हिंदी वर्णमाला”

  1. बहुत ही अच्छी रचना है, 👍🙂
    कोरोना व लॉक-डाउन पर मैंने कुछ लिखने की कोशिश की है,
    आशा है आपको पढ़ कर निराशा नहीं होगी।कृपया एक बार अवश्य पढ़ें

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.