प्रतीक (Symbol)

'प्रतीक' का सामान्य अर्थ 'चिह्न' होता है।       परिभाषा- यही चिह्न जब वस्तु विशेष, भावना विशेष, विचार विशेष या व्यक्ति विशेष का प्रतिनिधित्व करता है तब 'प्रतीक' कहलाता है।       डॉ. भागीरथ के शब्दों में - अपने रूप, गुण, कार्य या विशेषताओं के सादृश्य एवं प्रत्यक्षता के कारण जब कोई वस्तु या कार्य किसी अप्रस्तुत… Continue reading प्रतीक (Symbol)

नयी समीक्षा (New Criticism)

'यूनान' पाश्चात्य काव्यशास्त्र और दर्शन का स्रोत माना जाता है और प्लेटो को पाश्चात्य कव्य शास्त्रीय परंपरा का प्रारंभिक दार्शनिक।       20वीं शताब्दी का सबसे महत्वपूर्ण और समृद्ध आलोचनात्मक आन्दोलन का नाम 'नयी समीक्षा' आन्दोलन है।       आधुनिक काल में इंग्लैंड और अमेरिका में साहित्यिक आलोचना से संबंधित यह सबसे बड़ा आंदोलन था।       इस… Continue reading नयी समीक्षा (New Criticism)

सच्चितानंद हीरानंद वात्स्यायन ‘अज्ञेय’ : अरे यायावर रहेगा याद

रचना - 'अरे यायावर रहेगा याद' (1953 ई.) रचनाकार - सच्चितानंद हीरानंद वात्स्यायन 'अज्ञेय' (1911- 1987 ई.) * अज्ञेय द्वारा रचित ‘अरे यायावर रहेगा याद’ का आरम्भ 'परशुराम' के लेख से होता है। * इसमें 'अज्ञेय' की 'भारतीय' यात्राओं का चित्रण है। * इसमें अज्ञेय ने ब्रह्मपुत्र के मैदानी भाग से लेकर एलोरा की गुफाओं तक की… Continue reading सच्चितानंद हीरानंद वात्स्यायन ‘अज्ञेय’ : अरे यायावर रहेगा याद

राहुल सांकृत्यायन : मेरी तिब्बत यात्रा

रचना - मेरी तिब्बत यात्रा (1937 ई.) रचनाकार - राहुल सांकृत्यायन (1893-1963 ई.) जन्म - 9 अप्रैल, 1893 ई. निधन - अप्रैल, 1963 ई.       राहुल सांकृत्यायन साधु, बौद्ध भिक्षु, यायावर, इतिहासकार, पुरातत्त्ववेत्ता, नाटककार और कथाकार थे। ये जुझारू स्वतंत्रता-सेनानी, किसान-नेता, जन-जन के प्रिय थे। उनके अनन्य मित्र भदंत आनन्द कौसल्यायन के शब्दों में, ''उन्होंने… Continue reading राहुल सांकृत्यायन : मेरी तिब्बत यात्रा

गजानन माधव ‘मुक्तिबोध’ : एक साहित्यिक की डायरी

रचना -'एक साहित्यिक की डायरी' (प्रकाशन - 1964 ई.)  रचनाकार - गजानन माधव 'मुक्तिबोध' (1917 - 1964 ई.)       (प्रथम संस्करण -1964 ई.), द्वितीय संस्करण 2000 ई.) विधा - कथात्मक निबंध संग्रह, यह फैंटेसी, मनोविशलेषण, तर्क आदि विविध शैली में रचित है। 'एक साहित्यिक की डायरी' में संकलित कुल 13 निबंध है:       1. तीसरा… Continue reading गजानन माधव ‘मुक्तिबोध’ : एक साहित्यिक की डायरी

रामधारी सिंह ‘दिनकर’ : संस्कृति के चार अध्याय

रचना - 'संस्कृति के चार अध्याय' (1956 ई.) रचनाकार - रामधारी सिंह 'दिनकर' (1908 - 1974 ई.) * इस रचना में भारत वर्ष के संपूर्ण इतिहास को चार खंडों में बांटकर लिखने का अद्वितीय प्रयास है। * इस पुस्तक की प्रस्तावना नेहरू द्वारा लिखा गया है। * यह भारतीय संस्कृति का सर्वेक्षण है जिसके लिए… Continue reading रामधारी सिंह ‘दिनकर’ : संस्कृति के चार अध्याय

कृष्ण चन्दर : जामुन का पेड़

रचना - जामुन का पेड़ (कहानी) रचनाकाल - (1960 ई.)       यह हास्य-व्यंग्य शैली में रचित सामाजिक-समस्या प्रधान प्रतीकात्मक कहानी है। रचनाकार - कृष्ण चन्दर (प्रगतिशील कहानीकार) जन्म - 1914 . वजीराबाद, गुजरांवाला (पाकिस्तान) निधन - 1977 ई. (प्रगतिशील कहानीकार) वर्ण्य विषय:       इस कहानी में जामुन के पेड़ के नीचे दबे शायर (कवि) के… Continue reading कृष्ण चन्दर : जामुन का पेड़

हरिशंकर परसाई : भोलाराम का जीव

रचना - भोलाराम का जीव (कहानी) रचनाकार - हरिशंकर परसाई जन्म - 1924 ई. जमानी, होशंगाबाद (म. प्र.) निधन - (1995 ई.) * 'भोलाराम का जीव' कहानी का प्रकाशन - 1967 ई. में हुआ था। * 'भोलाराम का जीव' कहानी संग्रह का प्रकाशन - 2016 ई. वाणी प्रकाशन, दिल्ली से हुआ। * यह कहानी 'भोलाराम… Continue reading हरिशंकर परसाई : भोलाराम का जीव

रमणिका गुप्ता : आपहुदरी

रचना - आपहुदरी (2015 ई.) यह एक जिद्दी लड़की की आत्मकथा है।) रचनाकार - रमणिका गुप्ता (1930 - 2019 ई.) मूलनाम - 'रमना' है। जन्म - 22 अप्रैल, 1930 ई. सुनाम, पंजाब निधन - 26 मार्च, 2019 नई दिल्ली    प्रकाशन- 2015 ई. * इसका प्रथम भाग 'हादशे' है, जिसका प्रकाशन 2005 ई. में हुआ… Continue reading रमणिका गुप्ता : आपहुदरी

हरिवंशराय बच्चन : क्या भूलूँ क्या याद करूँ

रचना - 'क्या भूलूँ क्या याद करूँ' (1969 ई.) रचनाकार - हरिवंशराय बच्चन (1907 - 2003 ई.) जन्म - 27 नवंबर 1907 ई. प्रयागराज  (उ.प्र.) निधन - 18 जनवरी, 2003 ई. मुंबई हरिवंशराय बच्चन की आत्मकथा चार खंडों में प्रकाशित है-       1. क्या भूलूँ क्या याद करूँ (1969 ई.)       2. नीड़ का निर्माण… Continue reading हरिवंशराय बच्चन : क्या भूलूँ क्या याद करूँ