रमणिका गुप्ता : आपहुदरी

रचना – आपहुदरी (2015 ई.) यह एक जिद्दी लड़की की आत्मकथा है।)

रचनाकार – रमणिका गुप्ता (1930 – 2019 ई.)

मूलनाम – ‘रमना’ है।

जन्म – 22 अप्रैल, 1930 ई. सुनाम, पंजाब

निधन – 26 मार्च, 2019 नई दिल्ली   

प्रकाशन- 2015 ई.

* इसका प्रथम भाग ‘हादशे’ है, जिसका प्रकाशन 2005 ई. में हुआ था।  

* ‘आपहुदरी’ पंजाबी भाषा का शब्द है।

* ‘आपहुदारी’ में लेखिका पर ‘फ्रायडवाद’ का प्रभाव पड़ा है।

* ‘आपहुदारी’ आत्मकथा में रमणिका गुप्ता का पहला प्रेम बलराम नाम के व्यक्ति के साथ था।

* ‘सत्यार्थ प्रकाश’ पढ़ने के बाद लेखिका का पूजा-पाठ/कर्म-काण्डों पर से विश्वास कम होने लगा था।

* इस पुस्तक में लेखिका ने पंजाब की एक ‘कुड़ीमार’ नामक कुप्रथा का वर्णन किया है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.