हिन्दी सहित्य के प्रथम रचनाकार एवं उनकी रचनाएँ

  • हिन्दी भाषा के लिए हिन्दी ‘शब्द’ का प्रथम प्रयोग– ‘शर्फूद्दीन यज्दी’ ने ‘जफ़रनामा’ में 1424 ई० में किया था।
  • हिन्दी का प्रथम कवि–  सरहपा
  • हिन्दी में दोहा-चौपाई का सबसे पहले प्रयोग– सरहपा
  • खड़ीबोली गद्य की प्रथम रचना– चंद छंद बरनन की महिमा (गंग कवि, 17वीं शदी)
  • हिन्दी की प्रथम रचना– श्रावकाचार (933 ई०) रचनाकार– आचार्य देवसेन
  • हिन्दी के प्रथम महाकवि– चंदबरदाई
  • हिन्दी के प्रथम महाकाव्य– पृथ्वीराज रासो
  • रीतिकाव्य का प्रथम ग्रंथ– हिततरंगिणी (कृपाराम)
  • हिन्दी में रचना करने वाले प्रथम मुस्लिम कवि– अब्दुल रहमान
  • हिन्दी-मुस्लिम संस्कृति के प्रथम कवि– अब्दुल रहमान
  • हिन्दी में श्रृंगार परंपरा की प्रथम रचना– संदेशरासक (अब्दुल रहमान)
  • हिन्दी में सूफ़ी प्रेमाख्यान काव्य परंपरा की पहली रचना– चंदायन (मुल्ला दाउद)
  • हिन्दी में छंदशास्त्र की पहली रचना– छंदमाला (केशवदास)
  • हिन्दी में कृष्ण को काव्य का विषय बनाने वाले प्रथम कवि– विद्यापति
  • हिन्दी के प्रथम गीतकार– विद्यापति
  • हिन्दी में नख-शिख वर्णन परंपरा की पहली रचना– राउलवेल (रोडा कवि)
  • हिन्दी का प्रथम चंपू (गद्य-पद्य मिश्रित) काव्य– राउलवेल (रोडा कवि)
  • हिन्दी की पहली रचना जिसमे बारहमासा का वर्णन है– बीसलदेव रासो (नरपतिनाल्ह)
  • रासो परंपरा की पहली रचना– खुमानरासो (दलपति विजय)
  • जैन साहित्य में रास परंपरा की पहली रचना– भरतेश्वर-बाहुबली रास (शालिभद्र सूरि)
  • हिन्दी की आदि कवयित्री– मीराबाई
  • हिन्दी के प्रथम कोषकार– अमीर खुसरो, खालिकबारी (हिन्दी व फ़ारसी का शब्दकोष)  
  • खड़ीबोली के प्रथम कवि– श्रीधर पाठक
  • खड़ीबोली के प्रथम महाकवि– अयोध्याय सिंह उपाध्याय ‘हरिऔंध’
  • हिन्दी खड़ीबोली का प्रथम महाकाव्य– प्रियप्रवास (1914 ई०), हरिऔंध
  • हिन्दी का प्रथम मौलिक नाटक– आनंद रघुनंदन (महाराज विश्वनाथ)
  • हिन्दी की प्रथम आत्मकथा– अर्द्ध कथानक (बनारसीदास जैन)
  • हिन्दी की प्रथम जीवनी– दयानंद दिग्विजय (गोपाल शर्मा)
  • हिन्दी का प्रथम रिपोतार्ज– लक्ष्मीपुरा (शिवदान सिंह चौहान)
  • हिन्दी की प्रथम कहानी– इंदुमति (1900 ई०) किशोरीलाल गोस्वामी
  • हिन्दी की प्रथम मौलिक कहानी- ‘एक टोकरी भर मिट्टी’ (1901 ई०) मानी जाती है (आधुनिक शोध के अनुसार)। इसके रचनाकार माधवराव सप्रे हैं।
  • हिन्दी की प्रथम वैज्ञानिक कहानी– चंद्रलोक की यात्रा (केशव प्रसाद सिंह)
  • हिन्दी की प्रथम ऐतिहासिक कहानी– राखीबंद भाई (वृन्दावन लाल वर्मा)
  • हिन्दी का प्रथम गद्यप्रेम काव्य– साधना (रायकृष्ण दास)
  • हिन्दी का प्रथम अतुकांत रचना– प्रेम पथिक (जयशंकर प्रसाद)
  • छायावाद का प्रथम काव्य संग्रह– झरना (जयशंकर प्रसाद)
  • परिमार्जित एवं शुद्ध खड़ीबोली की प्रथम रचना– भाषा योगवशिष्ठ (रामप्रसाद निरंजनी)
  • ‘प्रगतिवाद’ शब्द का प्रथम प्रयोगकर्ता– मुक्तिबोध
  • ‘छायावाद’ शब्द का प्रथम प्रयोगकर्ता– मुकुटधर पांडेय
  • हिन्दी ‘स्वच्छंदतावाद’ शब्द का प्रथम प्रयोगकर्ता– मुकुटधर पांडेय
  • ‘प्रयोगवाद’ शब्द का प्रथम प्रयोगकर्ता– नंददुलारे वाजपेयी
  • हिन्दी का प्रथम गीतिनाट्य– करुणालय (जयशंकर प्रसाद)
  • दक्षिणी भारत में खड़ीबोली हिन्दी में रचना करने वाले प्रथम रचनाकार– मुल्ला वजही
  • ‘गीतिकाव्य शब्द’ का सबसे पहले प्रयोग– लोचनप्रसाद पांडेय (कुसुम माला की भूमिका में किया)
  • हिन्दी का प्रथम विश्व हिन्दी सम्मेलन– 1975, नागपुर
  • ‘नई कविता’ शब्द का सर्प्रथम प्रयोग– सच्चितानंद हीरानंद वात्स्यायन ‘अज्ञेय’
  • हिन्दी का प्रथम रेखाचित्र संकलन– (पदम् सिंह शर्मा)
  • हिन्दी के प्रथम मार्क्सवादी आलोचक– शिवदान सिंह चौहान
  • हिन्दी का प्रथम मौलिक उपन्यास– परीक्षा गुरु (1882 ई०) लाला श्रीनिवास दास
  • हिन्दी में ‘आख्यायिका शैली’ का प्रथम मौलिक उपन्यास– श्यामा स्वप्न (1885 ई०) ठाकुर जगमोहन सिंह
  • हिन्दी का प्रथम ‘ऐतिहासिक उपन्यास’– हृदय हारिणी व आदर्श रमणी (1890 ई०), रचनाकार– किशोरीलाल गोस्वामी
  • हिन्दी का प्रथम ‘पत्रात्मक शैली’ में लिखा गया मौलिक उपन्यास– चंद हसीनों के खतूत (1927 ई०), रचनाकार– पांडेय बेचन शर्मा ‘उग्र’
  • हिन्दी का प्रथम ‘आंचलिक’ उपन्यास– मैला आंचल (1954 ई०), रचनाकार– फणीश्वर नाथ ‘रेणु’
  • हिन्दी का पहला जीवन ‘चरितात्मक’ उपन्यास– झाँसी की रानी (1946 ई०) वृन्दावन लाल वर्मा
  • हिन्दी का प्रथम राजनैतिक उपन्यास – प्रेमाश्रम (1922 ई०), प्रेमचंद
  • ‘स्मृति शैली’ पर आधारित हिन्दी की पहली उपन्यास– देहाती दुनिया (1926 ई०), शिवपूजन सहाय
  • हिन्दी का पहला जासूसी उपन्यास– अद्भूत लाश (1896 ई०) गोपालराम गहमरी
  • हिन्दी का पहला तिलस्मी-ऐयारी उपन्यास– चंद्रकांता (1891 ई०) बाबू देवकीनंदन खत्री
  • हिन्दी का प्रथम अभिनीत नाटक– जानकी मंगल (शीतला श्री निवास दास)
  • हिन्दी का प्रथम दुखांत नाटक– रणधीर प्रेम-मोहिनी (लाला श्री निवास दास)
  • हिन्दी का प्रथम अनुदित नाटक– शाकुंतलम (1863 ई०) राजा लक्षमण सिंह
  • हिन्दी का पहला प्रतीकात्मक नाटक– कामना (1927 ई०) जयशंकर प्रसाद
  • हिन्दी का प्रथम एकांकी– एक घूँट (1929 ई०) जयशंकर प्रसाद
  • हिन्दी के प्रथम आलोचक– बालकृष्ण भट्ट (नोट: बालकृष्ण भट्ट द्वारा ‘हिन्दी प्रदीप’ पत्र में ‘सच्ची समालोचना’ शीर्षक से 1886 ई० में प्रकाशित ‘संयोगिता-स्वयंवर’ नाटक पर लिखी गई आलोचना को हिन्दी की पहली आलोचना माना जाता है।
  • हिन्दी आलोचना की पहली पुस्तक– हिन्दी कालिदास की आलोचना (महावीर प्रसाद द्विवेदी)
  • हिन्दी आलोचना के प्रथम इतिहासकार– आ० रामचंद्र शुक्ल
  • हिन्दी के प्रथम तुलनात्मक आलोचक– पदमसिंह शर्मा
  • हिन्दी के प्रथम सौष्ठववादी आलोचक– आचार्य नंददुलारे वाजपेयी
  • हिन्दी के प्रथम प्रभाववादी आलोचक– शांतिप्रिय द्विवेदी
  • हिन्दी के प्रथम रसवादी आलोचक– आचार्य रामचंद्र शुक्ल
  • हिन्दी के प्रथम निबंधकार– भारतेंदु हरिश्चंद्र ( इनके द्वारा रचित ‘सरयू पार की यात्रा’ को  हिन्दी का प्रथम ‘यात्रा वृत’ माना जाता है।)
  • पुस्तकाकार रूप में प्रकाशित हिन्दी का प्रथम यात्रा वृत संग्रह– लंदन यात्रा (1883 ई०), लेखिका श्रीमती हरदेवी
  • तुलनात्मक शैली में रचित हिन्दी का प्रथम वृत– लंदन का यात्री (1884 ई०) भगवान् दास वर्मा
  • पद शैली में रचित हिन्दी का प्रथम यात्रावृत– बदरी-केदार यात्रा (1890 ई०), कल्याण चंद्र
  • पत्रात्मक शैली में रचित हिन्दी का प्रथम यात्रावृत– मेरी यूरोप यात्रा (1932 ई०), गणेश नारायण सोमानी
  • निबंधात्मक शैली में रचित हिन्दी का पहला यात्रावृत– ज्ञान के उद्दान में (1937 ई०), सत्यदेव परिव्राजक
  • डायरी शैली में रचित हिन्दी का प्रथम यात्रावृत– मेरी तिब्बत यात्रा (1937 ई०), राहुल सांकृत्यायन
  • औपचारिक शैली में रचित हिन्दी की प्रथम यात्रावृत– उत्तराखंड के पाठ पर (1936 ई०) प्रो. मनोरंजन
  • हिन्दी का पहला पत्र साहित्य संग्रह– ‘स्वामी दयानंद के पत्र’ (1904 ई०), संकलन कर्ता-मुंशीराम
  • हिन्दी में साक्षात्कार विधा की पहली पुस्तक– कविदर्शन (बेनी माधव शर्मा उर्फ़ मुकुंद देव शर्मा)
  • हिन्दी साहित्य के इतिहास का प्रथम ग्रंथ– इस्त्वार द ला लितरेत्यूर ऐंदुई-ए-ऐंदुस्तानी (गार्सा द तासी)
  • साहित्येतिहास के विभिन्न कालों का नामकरण करने वाला प्रथम इतिहासकार– ग्रियर्सन  
  • हिन्दी में रचित हिन्दी का पहला इतिहास ग्रंथ– शिवसिंह सरोज (ठाकुर शिवसिंह सेंगर)
  • हिन्दी साहित्य का पहला प्रमाणिक इतिहास ग्रंथ– हिन्दी साहित्य का इतिहास ( आ० रामचंद्र शुक्ल)
  • हिन्दी का प्रथम समाचार पत्र– उदंत मार्तंड (प० युगल किशोर)
  • हिन्दी का प्रथम दैनिक समाचार पत्र– समाचार सुधा वर्षण (श्यामसुंदर सेन)
  • हिन्दी में अध्यापन करवाने वाला प्रथम विश्वविद्यालय– फोर्ट विलियम कॉलेज, कोलकाता
  • हिन्दी साहित्य में डी० लिट० करने वाले प्रथम विद्वान– पितांबर दत्त बडथ्वाल
  • हिन्दी का प्रथम मानक शब्दकोष– हिन्दी शब्दसागर (ना० प्र० स० काशी)
  • हिन्दी में मुक्त छंद के प्रवर्तक– सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’
  • मुक्त छंद में रचित हिन्दी की पहली कविता– जुही की कली (1916 ई०) निराला
  • हिन्दी के प्रथम चलचित्र – सत्य हरिश्चंद्र
  • हिन्दी साहित्य अकादमी पुरस्कार प्राप्त करने वाले प्रथम रचनाकार– माखनलाल चतुर्वेदी
  • हिन्दी के प्रथम ज्ञानपीठ पुरसका विजेता रचनाकार– सुमित्रानंदन पंत (चिदंबरा के लिए 1968 ई०)
  • हिन्दी के प्रथम बाल साहित्यकार– श्रीधर पाठक
  • हिन्दी के प्रथम वैयाकरण– कामता प्रसाद गुरु
  • हिन्दी की प्रथम कहानी लेखिका– बंग महिला (राजेन्द्र बाला घोष)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.