बाणों की शय्या (कहानी)

भीष्म पितामह महाभारत के सबसे महत्वपूर्ण पात्रों में से एक थे। भीष्म पितामह गंगा तथा शांतनु के आठवीं संतान थे। उनका मूलनाम देवव्रत था। भीष्म ने अपने पिता शांतनु का सत्यवती से विवाह करवाने के लिए आजीवन ब्रह्मचर्य का पालन करने की ‘भीष्म प्रतिज्ञा’ किया था। अपने पिता के लिए इस तरह की पितृभक्ति देखकर… Continue reading बाणों की शय्या (कहानी)

शापित कुन्ति

कुन्ति महाभारत में वर्णित पांडवों की माता थी। वे वासुदेवजी की बहन और भगवान श्री कृष्णा की बुआ थी। महाराज कुन्तिभोज ने कुंती को गोद लिया था। कुन्तिभोज के परम मित्र शूरसेन थे। वे बड़े ही धर्मात्मा थे। कुन्तिभोज के पास सब कुछ तो था किन्तु संतान नहीं थी। राजा कुन्तिभोज संतान के अभाव में… Continue reading शापित कुन्ति

संजय की दिव्यदृष्टि

महाभारत एक ऐसा ग्रन्थ है, जिसमें भारत का ही नहीं, विश्व इतिहास का भी रहस्य छुपा हुआ है। संजय महाभारत का महत्वपूर्ण पात्र और अंधे कौरव राजा धृतराष्ट्र के सारथी थे। संजय महर्षि व्यास के शिष्य और धृतराष्ट्र की राज्यसभा के सम्मानित सदस्य थे। संजय विद्वान गावाल्गण नामक सूत के पुत्र थे। वे विनम्र और… Continue reading संजय की दिव्यदृष्टि

अंगद उवाच

यह बात लंका काण्ड की है। राम और रावण का युद्ध चल रहा था। उस समय रावण को अंगद ने कहा, हे रावण! तू तो मरा हुआ है। तुझे मारने से क्या फायदा...! अंगद की बात सुनकर रावण बोला, मैं तो जीवित हूँ, मरा हुआ कैसे हूँ? अंगद बोले, सिर्फ साँस लेने वाले को जीवित… Continue reading अंगद उवाच

हिन्दी वर्णमाला

वर्ण- भाषा की सबसे छोटी इकाई जिसके खंड या टुकड़े नहीं किए जा सकते हैं, उसे वर्ण कहते हैं। जैसे- अ, आ, इ, ई आदि। वर्णमाला- वर्णों की व्यवस्थित समूह को ‘वर्णमाला’ कहते हैं। वर्णमाला में वर्णों की कुल संख्या 52 है। हिन्दी वर्णमाला के समस्त वर्णों को दो भागों में विभक्त किया गया है-… Continue reading हिन्दी वर्णमाला

कैकेयी के पुत्र प्रेम

रामायण सनातन धर्म का प्रमुख ग्रन्थ है। इसे पौराणिक, ऐतिहासिक, धार्मिक और दार्शनिक ग्रन्थ मना जाता है। रामायण की एक बड़ी घटना भगवान श्री राम का वन जाना था। राजा दशरथ से विवाह के पहले रानी कैकेयी महर्षि दुर्वासा की सेवा किया करती थी। कैकेयी की सेवा से प्रसन्न होकर महर्षि दुर्वासा ने उनका एक… Continue reading कैकेयी के पुत्र प्रेम

घाघ और भड्डरी (कहानी) GHAGH AUR BHADDARI (Story)

घाघ और भड्डरी दोनों एक ही व्यक्ति थे या दो। इस विषय पर लोगों में मतभेद है। अनुमान यही लगाया जाता है कि ये दोनों नाम एक ही व्यक्ति के हैं। कहावतों में बहुत जगह ऐसा भी है- ‘कहै घाघ सुनु भड्डरी’ या ‘कहै घाघ सुनु घाघिनी’ आदि। कहीं-कहीं घाघिनी, घाघ की पत्नी को कहा… Continue reading घाघ और भड्डरी (कहानी) GHAGH AUR BHADDARI (Story)

अदृश्य ‘कोरोना’ (कविता) (Invisible Corona – Poem)

अदृश्य ‘करोना’ ने मानव को उसका दृश्य दिखा दिया। चौपाया को राहों पर और मानव को, घर पर बैठा दिया। जो करते थे मतलब से बातें अब, बिना मतलब के बातें करते हैं। जो नहीं डरते थे शेर-चीता से उसे अदृश्य ‘कोरोना’ ने डरा दिया।

‘सुशांत’ छिछोरा ! (संस्मरण) Sushant Singh Rajput (Memory)

‘सुशांत’ छिछोरा तो नहीं था तू कमजोर भी नहीं जाते तो सभी हैं किन्तु तरीका ठीक न था ! जाने की इतनी जल्दी क्यों पड़ी थी ? बहुत कुछ करना था अभी बाकी करना ही था छिछोरापन तो फिर जिंदगी से ना करते !! बड़ी आशाएँ थीं, तुमसे हमारी उदाहरण थे, युवाओं के तुम दिल… Continue reading ‘सुशांत’ छिछोरा ! (संस्मरण) Sushant Singh Rajput (Memory)